What is the cause of headache and treatment?

What is the cause of a headache and treatment?

What is a headache?

A headache, as soon as we hear these words, we go into the memories of the last headache.

The pain that starts light and slowly increases slightly and sometimes becomes unmanageable too.

Sometimes it happens that despite taking medicines, we do not get relief from a headache.

A lot of people understand regular headaches as the truth of their life, but this is the treatment of the problem and the treatment is ‘meditation’.

It may be a little unpleasant to hear, but it is possible to get rid of headache by meditation.

cause of a headache and treatment

सिर दर्द क्या है?

सिरदर्द, ये शब्द सुनते ही हम पिछली बार के सिरदर्द की यादों में चले जाते हैं। दर्द जो हल्का-हल्का शुरू होता है और धीरे-धीरे थोड़ा बढ़ जाता है और कभी-कभी असहनीय भी हो जाता है।

कभी-कभी तो ऐसा भी होता है की दवाईया लेने के बावजूद भी हमको सिर के दर्द से राहत नहीं मिलती।

काफी लोग तो नियमित सर-दर्द को अपने जीवन की सच्चाई ही समझ लेते हैं परन्तु इस समस्या का इलाज है और वह इलाज है ‘ध्यान’।

सुनने में शायद थोड़ा अटपटा लगे परन्तु ध्यान द्वारा सिर के दर्द से छुटकारा पाना मुमकिन है।

Why is headache?

Headaches can be mainly due to stress, excessive physical and mental exertion, insufficient sleep and hunger, motion sickness, excessive noise and excessive use of electronic equipment.

Sometimes, thinking more about drinking water in insufficient amounts is also due to a headache.

8 reasons for a headache

 

  1. Tension
  2. Tiredness of mind and body
  3. Unbalanced physical system
  4. Short blood flow in the head
  5. Insufficient sleep
  6. excessive noise
  7. Talk longer on phone
  8. Over-think

सिरदर्द क्यों होता है?

सिरदर्द मुख्य रूप से तनाव, अत्यधिक शारीरिक और मानसिक परिश्रम, अपर्याप्त नींद और भूख, मोशन सिकनेस, अत्याधिक शोरगुल और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के अधिक प्रयोग के कारण सिरदर्द हो सकता हैं।

कभी-कभी,अधिक अधिक सोचना, अपर्याप्त मात्रा में पानी पीना यह भी सिरदर्द के कारण है।

सिर दर्द के 8 कारण

 

  1. तनाव
  2. मन व शरीर की थकावट
  3. असंतुलित शारीरिक तंत्र
  4. सिर में अल्प रक्त प्रवाह
  5. अपर्याप्त नींद
  6. अत्यधिक शोर
  7. फ़ोन पर ज़्यादा देर बात करना
  8. ज़रूरत से ज़्यादा सोचना

1. Stress

When it is difficult to handle stress in body and mind, then it takes the form of headache.

Meditation is counter-proportional to stress (meditation reduces stress). The more and the more times you meditate, the more the tension goes away from you.

Overall, it is to take care of 10-20 minutes daily.

2. The tiredness of mind and body

Running away at home and work all day, many tasks are settled. At such a time meditation fills you with fresh energy.

Your smile comes back and the freshness of the morning comes in the evening with just 20 minutes of meditation.

This gives you complete rest so that you can spend time enjoying a happy time with your family.

1. तनाव

जब शरीर व मन में तनाव संभालना मुश्किल हो जाए, तब ये सिरदर्द का स्वरूप ले लेता है।

ध्यान तनाव का प्रति-अनुपाती (ध्यान करने से तनाव कम होता है) है। जितना ज़्यादा और जितनी बार आप ध्यान करते हैं, उतना ही तनाव आपसे दूर हो जाता हैl

कुल मिलाकर तात्पर्य यह है कि 10-20 मिनट का प्रतिदिन ध्यान अवश्य करें।

2. मन व शरीर की थकावट

दिनभर घर व काम पर भागते भागते बहुत से काम निपटाने होते हैं। ऐसे समय ध्यान आपको तरो ताज़ा कर ऊर्जा से भर देता है।

आपकी मुस्कराहट लौट आती है और सुबह की जैसी ताज़गी शाम को बस 20 मिनट के ध्यान से आ जाती है।

ये आपको पूरी तरह विश्राम देता है ताकि आप अपने परिवार के साथ अच्छे से आनंदपूर्ण समय बिता पाएँ।

cause of a headache and treatment

headache

3. Unbalanced physical system

You may have noticed that when your stomach gets worse, you start to get a headache.

All the organs of our body are well connected to each other, so any kind of imbalance in one organ affects the other organ.

Meditation releases the body from the poison present in various parts of the body and removes the tension and establishes the balance.

It helps in monitoring the digestive system of the body. When you take care every day what you are eating and how much you eat.

If you start to take care of your diet, keep it awake then digestion improves and the body gets balanced too.

Thus the likelihood of headache decreases.

3. असंतुलित शारीरिक तंत्र

आपने ध्यान दिया होगा कि जब आपका पेट खराब होता है, आपको सिरदर्द होने लगता हैl

हमारे शरीर के सब अंग एक दूसरे से अच्छे से जुड़े हुए हैं इसलिए एक अंग में किसी भी प्रकार का असंतुलन, दूसरे अंग को प्रभावित करता है।

ध्यान शरीर के विभिन्न अंगो में उपस्थित विष से शरीर को मुक्त करता है और तनाव को दूर कर पुनः संतुलन को स्थापित करता है।

यह शरीर के पाचन तंत्र पर नज़र रखने में सहयोग करता है। जब आप प्रतिदिन ध्यान रखते हैं कि आप क्या खा रहे हैं और कितना खा रहे हैं।

आप अपने आहार पर ध्यान रख, इस बारे में सजग रहने लगते हैं तो पाचन में सुधार आता है और शरीर भी संतुलित हो जाता है।

इस प्रकार सिर दर्द की संभावना कम हो जाती है।

4. Insufficient sleep

Working for a long time, excessive work habits or TV and Internet addiction, all are excited to sleep late at night.

Although it is not good to make them a habit and sleep late in the night, sometimes it becomes indispensable (which can not be avoided).

We can not do much about this when a project is expiring or a client’s meeting is late at night.

Many times, sitting in just 20 minutes helps meditate, to cope with the stress of such a task.

Meditation gives you relaxation, energizes and enhances functionality as well.

In fact, regular practice of meditation increases productivity. You finish your work quickly and do not have to wait till late at night.

Meditation is the home remedy for such a sleeping, which instantly benefits.

Meditation also enhances the quality of your sleep. Do you know that 20 minutes of meditation can give deeper rest than your 8-hour sleep?

This does not mean that meditation is the option of sleep, but when you meditate, you get better sleep.

 a headache treatment

 headache

4. अपर्याप्त नींद

लंबे समय तक काम करना, अत्यधिक काम करने की आदत या टीवी व इंटरनेट की लत, ये सभी बहाने हैं रात को देर से सोने के।

यद्यपि ये अच्छा नहीं है कि इन्हे आदत बनाया जाए और रात में देर से सोया जाए लेकिन कई बार यह अपरिहार्य (जिसे टाला न जा सके) हो जाता है।

जब किसी प्रॉजेक्ट की समय सीमा समाप्त हो रही हो या देर रात क्लाइंट की मीटिंग है, इस बारे में हम ज़्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं।

कई बार बस 20 मिनट बैठकर ध्यान करना, इस तरह के काम के दवाब का सामना करने में मदद करता है।

ध्यान आपको विश्राम देता है, ऊर्जित करता है और साथ ही कार्यक्षमता को बढ़ाता है।

वास्तव में ध्यान का नियमित अभ्यास उत्पादकता बढ़ाता है। आप अपना काम जल्दी ख़त्म कर लेते हैं और देर रात तक रुकना नहीं पड़ता है।

a headache treatment

ध्यान एक ऐसा नींद आने का घरेलू उपाय है, जिस से तुरंत फायदा होता है।

ध्यान आपकी नींद की गुणवत्ता को भी बढ़ाता है। क्या आपको पता है कि 20 मिनट का ध्यान आपकी 8 घंटे की नींद से भी ज़्यादा गहरा विश्राम दे सकता है?

इसका तात्पर्य यह नहीं है कि ध्यान नींद का विकल्प है, बल्कि जब आप ध्यान करते हैं तो आप बेहतर सो पाते हैं।

6. अत्यधिक शोर

हम सभी ने कभी न कभी अत्यधिक शोर का अनुभव किया होगाl हम में से कुछ बिल्कुल भी शोर सह नहीं पाते हैं और जल्दी ही सिरदर्द की शिकायत करने लगते हैं।

ध्यान आपको किसी भी परिस्थिति को वो जैसी है वैसी ही उसे स्वीकारने की योग्यता देता है।

जिससे आप किसी भी परिस्थिति में शांत व आराम से रह पाते हैं। इसलिए अगर आपके आसपास ज़ोर का शोर है ये आपको प्रभावित नहीं करेगा क्योंकि आप ध्यान करते हैं और भीतर से विश्राम में हैं।

नोट: जब आप नियमित ध्यान करते हैं तब आपके भीतर एक ठहराव की अनुभूति आने लगती है।

ऐसी स्थितियाँ आएँगी जब आपके आसपास बहुत शोर होगा जो कि सिरदर्द कर देने वाला भी हो सकता है

लेकिन नियमित ध्यान के अभ्यास से आप इस स्थिति का सामना कर पाएँगे और स्वीकार कर पाएँगे।

7. फ़ोन पर ज़्यादा देर बात करना

यह एक ऐसी स्थिति है जिससे बचना कई बार मुश्किल हो जाता है। दिन भर की क्लाइंट कॉल या देश विदेश के दोस्तों के हालचाल लेना ये सब काम हम हर दिन अपने जीवन में करते हैं। कभी कभी ये फ़ोन पर ज़्यादा देर बात करना सिरदर्द का कारण बन जाता है।

चिंता मत करेंl जब भी आपको चक्कर आए बस कुछ मिनट ध्यान करें। यह आपके तनाव को दूर करेगा और तंत्रिका तंत्र को गहरा विश्राम देगा जो कि एलेक्ट्रॉनिक चीज़ों के प्रयोग से प्रभावित हुआ है।

8. ज़रूरत से ज़्यादा सोचना

एक हल है, ज़्यादा सोचना बंद कर दें। लेकिन कई बार सोचना अवश्यंभावी हो जाता है।

रोजमर्रा की जिंदगी का तनाव, काम का दबाव, परिवार का दबाव, सम्बंधों के विवाद, इन सबके बीच हम कैसे नहीं सोचें।

लेकिन आप निश्चित ही दिन में कुछ समय निकाल कर आँख बंद कर विश्राम कर सकते हैं।

कुछ समय के लिए बाहरी संसार को अलग रख, अपने साथ रहें इसे अपना समय समझ कर प्रयोग करें और अंतर देखें।

a headache treatment

headache

6. High Noise

We all may have experienced a lot of noise at some time or sometimes. Some of us do not get any noise at all, and soon they start complaining of a headache.

Meditation gives you the ability to accept any circumstance as it is.

By which you can stay calm and comfortable under any circumstances. So if you have a loud noise around you, it will not affect you because you meditate and are in the rest from within.

Note: When you meditate regularly, then you experience a pause within yourself.

Such situations will occur when there will be a lot of noise around you, which can also be a headache,

but with the practice of regular meditation, you will be able to face this situation and accept it.

7. Talking to the phone more often

This is a situation that can be difficult to avoid many times. All-day client calls or taking the movement of friends from abroad,

we do all these things in our lives every day. Sometimes talking on this phone becomes a cause for a headache.

Do not worry. Whenever you feel dizzy, meditate only for a few minutes. This will remove your stress and give deep rest to the nervous system which is affected by the use of electronic things.

8. Thinking Abundant

There is a solution, stop thinking more. But many times it becomes inevitable to think.

The stress of everyday life, pressure of work, the pressure of family, a controversy over relations, how do we not think about them all.

But you can certainly take some time off the day and rest after the eyes.

For some time, keep the outside world separate, stay with yourself, understand it by using your time and see the difference.

Ear Pain Treatment

Pet Dard Ka Ilaaj

Back Pain Treatment

What is the cause of a headache and treatment?

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *