hamari adhuri kahani movie – Zaroori Tha – Rahat Fateh Ali Khan

hamari adhuri kahani movie
गीत शीर्षक: जरुरी था
एल्बम: बैक 2 लव
गायक राहत फ़तेह अली ख़ान
गीत: खलील-उर-रहमान कामर
संगीत: सहिर अली बागगा
वर्ष: 2014
Lafz kitne hi
Tere pairon se lipte honge
Tune jab aakhiri khat
Mera jalaya hoga

hamari adhuri kahani movie – Zaroori Tha – Rahat Fateh Ali Khan

Tune jab phul
Kitabon se nikale honge
Dene wala bhi tujhe
Yad to aya hoga
Teri ankho  ke dariya ka
Utarna bhi zaruri tha
Mohabat bhi zaruri thi
Bichadna bhi zaruri tha
Zaruri tha ki
Hum dhono tawaf-e-arzo karte
Magar phir aarzu ka
Bikharna bhi jaruri tha
Teri ankho ke dariya ka
Utarna bhi jaroori tha
Batao yad hai tumko
Woh jab dil ko churaya tha
Churai chej ko tumne
Khuda ka ghar banaya tha
Woh jab kehte the
Mera naam tum tasbih
Me padhte ho
Mohabat ki namajo ko
Kara karne se darte ho
Magar ab yad ata hai
Wo bate thi mehaz bate
Kahin baton hi baato me
Mukarna bhi jaroori tha
Teri aankho ke dariya ka
Utarna bhi jaroori tha
Wahi hai soorate apni
Wahi main hun, wahi tum ho
Magar khoya hua hoon main
Magar tum bhi kahin gum ho
Mohabat me daga ki thi
So kafir the so kafir ha
Mili ha manzilein phir bhi
Musafir the, musafir hain
Tere dil ke nikale hum
Kahaa bhatke, kahan pahunche
Magar bhatke toh yad aya
Bhatkna bhi zooruri tha
Mohabat bhi jaroori thi
Bichhadna bhi jaroori tha
jaroori tha ki
Hum dono tawaf-e-arzoo karte
Magar phir aarzo ka
Bikharna bhi jaroori tha
Teri ankho ke dariya ka
Utarna bhi jaruri tha
hamari adhuri kahani movie

hamari adhuri kahani movie – Zaroori Tha – Rahat Fateh Ali Khan

लफ्ज़ कितने ही तेरे पैरों से लिपटे होंगे
तूने जब आख़िरी खत मेरा जलाया होगा
तूने जब फूल किताबों से निकाले होंगे
देने वाला भी तुझे याद तो आया होगातेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था
मोहब्बत भी ज़रूरी थी
बिछड़ना भी ज़रूरी था
ज़रूरी था की हम दोनों
तवाफ़े आरज़ू करते
मगर फिर आरज़ूओं का
बिखरना भी ज़रूरी था
तेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था
बताओ याद है तुमको
वो जब दिल को चुराया था
चुराई चीज़ को तुमने
ख़ुदा का घर बनाया था
वो जब कहते थे
मेरा नाम तुम तस्बीह में पढ़ते हो
मोहब्बत की नमाज़ों को
कज़ा करने से डरते हो
मगर अब याद आता है
वो बातें थी महज़ बातें
कहीं बातों ही बातों में
मुकरना भी ज़रूरी था
तेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था
वही हैं सूरतें अपनी
वही मैं हूँ, वही तुम हो
मगर खोया हुआ हूँ मैं
मगर तुम भी कहीं गुम हो
मोहब्बत में दग़ा की थी
सो काफ़िर थे सो काफ़िर हैं
मिली हैं मंज़िलें फिर भी
मुसाफिर थे मुसाफिर हैं
तेरे दिल के निकाले हम
कहाँ भटके कहाँ पहुंचे
मगर भटके तो याद आया
भटकना भी ज़रूरी था
मोहब्बत भी ज़रूरी थी
बिछड़ना भी ज़रूरी था
ज़रूरी था की हम दोनों
तवाफ़े आरज़ू करते
मगर फिर आरज़ूओं का
बिखरना भी ज़रूरी था
तेरी आँखों के दरिया का
उतरना भी ज़रूरी था
Song Title: Zaroori Tha
Album: Back 2 Love
Singer: Rahat Fateh Ali Khan
Lyrics: Khalil-Ur-Rehman Qamar
Music: Sahir Ali Bagga
Year: 2014

hamari adhuri kahani movie – Zaroori Tha – Rahat Fateh Ali Khan

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *